हनुमान गायत्री मंत्र अर्थ सहित

भजन को शेयर जरूर करें-:

हनुमान गायत्री मंत्र अर्थ सहित

ॐ आंजनेयाय विद्मिहे वायुपुत्राय धीमहि !
तन्नो: हनुमान: प्रचोदयात !! 1 !!

ॐ रामदूताय विद्मिहे कपिराजाय धीमहि !
तन्नो: मारुति: प्रचोदयात !! 2 !!

ॐ अन्जनिसुताय विद्मिहे महाबलाय धीमहि !
तन्नो: मारुति: प्रचोदयात !! 3 !!

हनुमान गायत्री मंत्र का अर्थ

हे अंजना और वायु के पुत्र, मैं आपसे बुद्धि और ज्ञान की प्रार्थना करता हूं !

हे अंजना और वायु के पुत्र हनुमान हम आपसे प्रार्थना करते हैं कि हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करें !

Hanuman Gayatri Mantra Lyrics in English

Om Aanjneyay Widmahe Wayuputray Dhimahi !
Tanno Hanumant Prachodayat !! 1 !!

Om Ramdutaay Widmahe Kapirajay Dhimahi !
Tanno Maruti Prachodayat !! 2 !!

Om AnjaniSutaay Widmahe Mahabalaay Dhimahi !
Tanno Maaruti Prachodayat !! 3 !!

हनुमान जी के अन्य भजन लिरिक्स (Hanuman Bhajan Lyrics)
जो खेल गए प्राणो पे श्री राम के लिएश्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में
मंगल मूर्ति मारुति नंदन लिरिक्सआज बालाजी का कीर्तन हमारे अंगना
अयोध्या नाथ से जाकर पवनसुत हालहनुमान बजरंग बाण पाठ
हवा में उड़ता जाए रे मेरा राम दुलाराअमृत की बरसे बदरिया बाबा की
जय बोलो जय बोलो जय हनुमानराम पे जब जब विपदा आई

Hanuman Ji Ka Bhajan Video !

For More Bhajan Login – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: