सुन के भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार | Sun Ke Bhakton Ki Pukar Lyrics

भजन को शेयर जरूर करें-:
Sun Ke Bhakton Ki Pukar Lyrics, सुन के भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार लिरिक्स

सुन के भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार लिरिक्स (Sun Ke Bhakton Ki Pukar Lyrics)

सुन के भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर…

भस्मी रमाये देखो डमरू बजाये,
कैसा निराला भोले रूप सजाये,
गले में है सर्पो का हार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर…

मृग चाल पहने है जटाओ में गंगा,
चम चम चमकता है माथे पे चंदा,
गौरी मैया के श्रृंगार होके नंदी में सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर…

देवों के देव इनकी महिमा महान है,
भोले भक्तों के ये तो भोले भगवान है,
करने भक्तों का उद्धार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर…

शिव जी के अन्य भजन (Shiv Bhajan Lyrics)
बड़ा है दयालु भोलेनाथ डमरू वालामेरा भोला डमरू वाला लिरिक्स
डम डम डमरू बजाना होगा लिरिक्सडमरू वाले आजा तेरी याद सताए
कैसे चढ़ाऊँ भोला फूल बेल पातीहे रामेश्वर शिव नागेश्वर सुन लो मेरी
Shiv Bhajan Lyrics Video !

अन्य भजन के लिए लॉगिन करें – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: