दशरथ के राजकुमार वन में फिरते मारे मारे लिरिक्स | Dashrath Ke Rajkumar Ban Mein firte Mare Mare Lyrics

भजन को शेयर जरूर करें-:

दशरथ के राजकुमार वन में फिरते मारे मारे लिरिक्स (Dashrath Ke Rajkumar Ban Mein firte Mare Mare Lyrics), राम जी का भजन, Ram Ji Ka Bhajan, Ram Bhajan Lyrics !

दशरथ के राजकुमार वन में फिरते मारे मारे लिरिक्स (Dashrath Ke Rajkumar Ban Mein firte Mare Mare Lyrics)

दशरथ के राजकुमार वन में फिरते मारे मारे,
वन में फिरते मारे मारे, वन में फिरते मारे मारे,
दुनिया के पालनहार वन में फिरते मारे मारे…

थी साथ में जनक दुलारी पत्नी प्राणों से प्यारी,
सीता सतवंती है नार बन में फिरते मारे मारे,
दशरथ के राजकुमार वन में फिरते मारे मारे…

भाई लखन लाल बलशाली उसने तीर कमान उठा ली,
भाई भाभी के पहरेदार वन में फिरते मारे मारे,
दशरथ के राजकुमार वन में फिरते मारे मारे…

सोने का हिरण दिखा था उसमें सीता हरण छिपा था,
लक्ष्मण रेखा हो गई पार में फिरते मारे मारे,
दशरथ के राजकुमार, वन में फिरते मारे मारे…

हनुमान से मिलन हुआ था सुग्रीव भी साथ हुआ था,
वानर सेना हुई तैयार वन में फिरते मारे मारे,
दशरथ के राजकुमार, वन में फिरते मारे मारे…

लक्ष्मण बेहोश हुए थे श्रीराम के होश उड़े थे,
रोए नारायण अवतार वन में फिरते मारे मारे,
दशरथ के राजकुमार, वन में फिरते मारे मारे…

जब दुष्टा चरण हुआ था तो रावण मरण हुआ था,
उसका तोड़ दिया अहंकार वन में फिरते मारे मारे,
दशरथ के राजकुमार, वन में फिरते मारे मारे…

जब राम अयोध्या आए घर-घर में दीप जलाए,
मनी दिवाली पहली बार जब अवध में राम पधारे,
दशरथ के राजकुमार, वन में फिरते मारे मारे…

सखिया सब मंगल गांमें सब देव फूल बरसामें,
घर पर हो रही खुशियां अपार जब अवध में राम पधारे,
दशरथ के राजकुमार, वन में फिरते मारे मारे…

राम जी के अन्य भजन लिरिक्स (Ram Bhajan Lyrics)
मेरा मिलन करा दो श्री राम सेराम का गुणगान करिये लिरिक्स
राम जप ले मना राम जप लेसीताराम सीताराम सीताराम बोल
राम नाम अलबेला भजो रे मनदाता एक राम भिखारी सारी दुनिया
भजले राम राम राम लिरिक्सराम को मांग ले मेरे प्यारे लिरिक्स
Ram Bhajan Dashrath Ke Rajkumar Ban Mein firte Mare Mare Lyrics Video !

अन्य भजन के लिए लॉगिन करें – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: