वन वन भटके राम लिरिक्स | Van Van Bhatke Ram Lyrics

भजन को शेयर जरूर करें-:

वन वन भटके राम लिरिक्स (Van Van Bhatke Ram Lyrics) -: विरह व्यथा से व्यतीत द्रवित हो, राम जी का भजन, Ram Ji Ka Bhajan, Ram Bhajan Lyrics !

वन वन भटके राम लिरिक्स (Van Van Bhatke Ram Lyrics)

वन वन भटके राम लिरिक्स (Van Van Bhatke Ram Lyrics)

चौपाई
आश्रम देखि जानकी हीना,
भए बिकल जस प्राकृत दीना…

विरह व्यथा से व्यतीत द्रवित हो,
वन वन भटके राम…,
अपनी सिया को, प्राण पिया को,
पग पग ढूंढे राम, विरह व्यथा से,
व्यतीत द्रवित हो, वन वन भटके राम…

कुंजन माहि ना सरिता तीरे,
विरह बिकल रघुवीर अधिरे,
हे खग मृग हे मधुकर शैनी,
तुम देखी सीता मृगनयनी,
वृक्ष लता से जा से ता से,
पूछत डोले राम, बन-बन, भटके राम,
अपनी सिया को, प्राण पिया को,
पग पग ढूंढे राम, विरह व्यथा से,
व्यतीत द्रवित हो, बन-बन भटके राम…

फागुन खानी जानकी सीता,
रूप शील व्रत नाम पुनिता,
प्राणाधिका घनिष्ट सनेही,
कबहु ना दूर भई वैदेही,
श्री हरी जु श्री हिन सिया बिन,
ऐसे लागे राम, बन-बन भटके राम,
अपनी सिया को,प्राण पिया को,
पग पग ढूंढे राम,विरह व्यथा से,
व्यतीत द्रवित हो, बन-बन भटके राम…

विरह व्यथा से,व्यतीत द्रवित हो,
बन बन भटके राम,बन बन भटके राम,
अपनी सिया को,प्राण पिया को,
पग पग ढूंढे राम,विरह व्यथा से,
व्यतीत द्रवित हो वन वन भटके राम

राम जी के अन्य भजन (Ram Bhajan Lyrics)
आओ बसाये मन मंदिर में लिरिक्सदिल से दिल भरकर ना देखी लिरिक्स
मेरा हृदय तुम हो श्वास तुम ही लिरिक्सरघुनंदन राघव राम हरे लिरिक्स
राम भजले रे जरा ये बीते जिंदगानीराम जी करेंगे ना तो श्याम जी करेंगे
Ram Bhajan Lyrics Video !

अन्य भजन के लिए लॉगिन करें – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: