काहे काया का करता गुमान रे लिरिक्स | Kahe Kaya Ka Karta Gumaan Re Lyrics

भजन को शेयर जरूर करें-:
Kahe Kaya Ka Karta Gumaan Re Lyrics, काहे काया का करता गुमान रे लिरिक्स

काहे काया का करता गुमान रे लिरिक्स (Kahe Kaya Ka Karta Gumaan Re Lyrics)

काहे काया का करता गुमान रे,
सुबह शाम जपो राम जपो राम…

हरि चरणों से प्रीत लगा के,
जीवन सफल बना अपना,
रहा हरि से सदा अनजान रे,
सुबह शाम जपो राम जपो राम…

खेलों में सब उम्र गंवा दी,
राम भजन ना किया तूने,
किया माया का तूने अभिमान रे,
सुबह शाम जपो राम जपो राम…

पूर्व जनम के पुण्य के कारण,
यह मानव तन पाया है,
काहे भुला है तू हरि नाम रे,
सुबह शाम जपो राम जपो राम…

हरि भक्ति के अमृत की जो,
एक बूंद भी तू पीले,
पुरे होंगे तेरे अरमान रे,
सुबह शाम जपो राम जपो राम…

राम जी के अन्य भजन (Ram Bhajan Lyrics)
चलो अयोध्या धाम लिरिक्सदेखो राजा बने महाराज लिरिक्स
जग के मालिक प्रभु राम हैमेरी लेजा खड़ाऊ भरत भैया
श्री राम प्रभु का क्या कहनाजग मग दीप जले आये राम
Ram Bhajan Lyrics Video !

अन्य भजन के लिए लॉगिन करें – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: