श्री रामायण प्रारम्भ स्तुति लिरिक्स

भजन को शेयर जरूर करें-:
श्री रामायण प्रारम्भ स्तुति लिरिक्स (Shri Ramayan Prarambh Stuti Lyrics)

श्री रामायण प्रारम्भ स्तुति लिरिक्स

जो सुमिरत सिधि होइ गन नायक करिबर बदन !
करउ अनुग्रह सोइ बुद्धि रासि सुभ गुन सदन !!

मूक होइ बाचाल पंगु चढइ गिरिबर गहन !
जासु कृपाँ सो दयाल द्रवउ सकल कलि मल दहन !!

नील सरोरुह स्याम तरुन अरुन बारिज नयन !
करउ सो मम उर धाम सदा छीरसागर सयन !!

कुंद इंदु सम देह उमा रमन करुना अयन !
जाहि दीन पर नेह करउ कृपा मर्दन मयन !!

बंदउ गुरु पद कंज कृपा सिंधु नररूप हरि !
महामोह तम पुंज जासु बचन रबि कर निकर !!

राम जी के अन्य भजन लिरिक्स (Ram Bhajan Lyrics)
चंदा छुप जा रे बादल में लिरिक्सरामचंद्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आएगा
श्री अवधपुरी बेमिशाल हे सखी लिरिक्सराम का लेते नाम चलो चित्रकूट के धाम चलो
देखो अवध में मच रही धूम लिरिक्सठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैजनिया
Ram Ji Ka Bhajan Video !

अन्य भजन के लिए लॉगिन करें – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: