जानत प्रीति रीति रघुराई लिरिक्स | Janat Priti Riti Raghurai Lyrics

भजन को शेयर जरूर करें-:

जानत प्रीति रीति रघुराई लिरिक्स (Janat Priti Riti Raghurai Lyrics) नाते सब हाते करि राखत, राम सनेह-सगाई, राम जी का भजन, Ram Bhajan Lyrics !

Janat Priti Riti Raghurai Lyrics, जानत प्रीति रीति रघुराई लिरिक्स

जानत प्रीति रीति रघुराई लिरिक्स (Janat Priti Riti Raghurai Lyrics)

जानत प्रीति-रीति रघुराई ।
नाते सब हाते करि राखत,
राम सनेह-सगाई ॥ 1 ॥

नेह निबाहि देह तजि दसरथ,
कीरति अचल चलाई ।
ऐसेहु पितु तेँ अधिक गीधपर,
ममता गुन गरुआई ॥ 2 ॥

तिय-बिरही सुग्रीव सखा,
लखि प्रानप्रिया बिसराई ।
रन पर्-यो बंधु बिभीषन ही को,
सोच ह्रदय अधिकाई ॥ 3 ॥

घर गुरुगृह प्रिय सदन सासुरे,
भइ जब जहँ पहुनाई ।
तब तहँ कहि सबरीके फलनिकी,
रुचि माधुरी न पाई ॥ 4 ॥

सहज सरुप कथा मुनि बरनत,
रहत सकुचि सिर नाई ।
केवट मीत कहे सुख मानत,
बानर बंधु बड़ाई ॥ 5 ॥

प्रेम-कनौड़ो रामसो प्रभु,
त्रिभुवन तिहुँकाल न भाई ।
तेरो रिनी हौँ कह्यो कपि सोँ,
ऐसी मानिहि को सेवकाई ॥ 6 ॥

तुलसी राम-सनेह-सील लखि,
जो न भगति उर आई ।
तौ तोहिँ जनमि जाय जननी,
जड़ तनु-तरुनता गवाँई ॥ 7 ॥

राम जी के अन्य भजन (Ram Bhajan Lyrics)
रामायण मनका 108 पाठमेरे प्राणों से प्यारे राम लिरिक्स
हम तो दीवाने राम के लिरिक्सकौशल्या दशरथ के नंदन लिरिक्स
चित्रकूट के घाट घाट पे शबरीमेरे राम मुझको देना सहारा
राम जी के साथ जो हनुमानमेरे मन मंदिर में जबसे सीता
Ram Bhajan Lyrics Video !

अन्य भजन के लिए लॉगिन करें – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: