हनुमत का हाथ अपने सर लिरिक्स | Hanumat Ka Haath Apne Sir Lyrics

भजन को शेयर जरूर करें-:

हनुमत का हाथ अपने सर लिरिक्स (Hanumat Ka Haath Apne Sir Lyrics) -: रूह कांप रही थी मेरी मन में डर डर डर था, हनुमान जी का भजन, बजरंगबली भजन, Hanuman Ji Ka Bhajan, Bajrangbali Ka Bhajan !

Hanumat Ka Haath Apne Sir Lyrics, हनुमत का हाथ अपने सर लिरिक्स

हनुमत का हाथ अपने सर लिरिक्स (Hanumat Ka Haath Apne Sir Lyrics)

रूह कांप रही थी मेरी,
मन में डर डर डर था,
मन बोला जय जय बजरंग बली,
जय जय वीर हनुमान,
काहे को डर,
जब हनुमत का हाथ अपने सर…

एक सुनसान भयंकर रात थी,
घोर घोर अंधेरे की बात थी,
काप रहा था सारा अंग अंग,
मन से बोला जय जय बजरग,
बोला हनुमते और पहुंच गया घर…

भूत चुड़ैल पास नही भटकते,
जब हनुमान का नाम रटते,
हर मुश्किल का हल हनुमान,
तन मन धन से करो ध्यान,
बोलो बजरंगबली और निडर…

हनुमान जी के अन्य भजन (Hanuman Bhajan Lyrics)
तन पे सिंदूरी चोला हाथ में घोटाहनुमत तुझको पुकारे तेरा दास
तेरा भवन भी छोटा पड़ गयासब मंगलमय कर देते हैं
ओ सुन अंजनी के लाला लिरिक्सअंजनी को लालो बड़ो प्यारो लागे
कोई तने कहता राम पुजारीतेरे जैसा राम भगत कोई हुआ
Hanuman Ji Ka Bhajan Video !

For More Bhajan Login – hindibhajanlyrics.in

भजन को शेयर जरूर करें-: